सेहत समाचार

कोरोना

N-95 मास्क पर मीडिया का भ्रम – सरकार ने किया N -९५ मास्क्स के प्रति आगाह

n95 masks useless?

आपके मित्र अगर कोरोना ग्रस्त है और उन्हें मालूम नहीं। अगर वो मित्र N ९५ मास्क लगा कर आपसे मिलने आयेंगे तो वो तो शुद्ध हवा लेते रहेंगे पर जो हवा छोड़ेंगे वो कोरोना से ग्रस्त होगी.

सामान्य स्वस्थ व्यक्ति के लिए तीन लेयर वाला मास्क

N-95 मास्क पर मीडिया का भ्रम सामने आया है. बात साधारण थी और उसका मतलब कुछ और ही निकल गया.

खबर क्या थी?

२१ जुलाई २०२० को सुबह सुबह जब लोगो ने अपना सोशल मीडिया खोला तो वो भौचक रह गए.

हर जगह ये बात बोली जा रही थी की सरकार ने N ९५ मास्क को असुरक्षित घोषित कर दिया है. और जब लोगो ने किसी विश्वसनीय मीडिया को टटोला तो हर जगह ये खबर सही साबित हो रही थी.

गूगल पर N ९५ मास्क की खोज की तो ऐसा कुछ दिखा।

N-95 मास्क पर मीडिया का भ्रम

 क्या सरकार ने देर कर दी बताने में की N ९५ मास्क किसी काम के नहीं?

लोगो का सबसे पहला सवाल ये था की आखिर इतने महीनो के बाद सरकार की नींद क्यों खुली.

जाहिर है हमारे मन में भी ये ही सवाल था.

और हमने पूरी खबर की जांच की और हैरान रह गए की आखिर एक महत्वपूर्ण बात को घुमा फिरा कर मजाक लायक बना दिया जाता है.

विकिपीडिआ से सभार आपको N 95  मास्क तो पता ही होंगे क्या होता है.  सरकार ने इसमें से भी एक विशेष प्रकार के N ९५ मास्क के बारे में कहा है जिसमे वाल्वड रेस्पिरेटर होता है.

सरकार ने क्या कहा ?

आप प्रश्न ये उठता है की सरकार ने आखिर कहा क्या?  और भ्रम कहा से फैला या फैलाया गया.

सबसे पहले हमें देखना चाहिए की एडवाइजरी में क्या लिखा गया है. तो  नीचे दी गयी है उस पत्र की प्रतिलिपि जो डायरेक्टर जनरल ऑफ़ हेल्थ सर्विसेज (DGHS) , श्री राजीव गर्ग ने प्रिंसिपल सेक्रेटरीज ऑफ़ हेल्थ एंड मेडिकल एजुकेशन – राज्य सरकारे और केंद्र शासित प्रदेशो को लिखा।

उसमे कुछ बाते स्पष्ट होती है

 ये बाते आपको जानना बहुत जरूरी है. ताकि आप समझ सके की N-95 मास्क पर मीडिया का भ्रम कैसे बना

N-95 मास्क हिंदी में

इस लेटर को आप पढ़ेंगे तो स्पष्ट हो जायेगा की.

१- की N ९५ मास्क आम जनता के लिए नहीं है. ये सिर्फ और सिर्फ मेडिकल या कोविद वररियर्स जो अस्पतालों या स्वास्थ सेवाओं में लगे है उनके लिए है. 

२- सदर्न जनता के लिए तीन लेयर वाला मास्क काफी है. 

३- ये उस एडवाइजरी की याद ताजा करवाने और उसपर अमल करवाने के लिए लिखा गया जो अप्रैल ३, २०२० को जरी की गयी थी. 

४- ये नया मामला या खोज नहीं है. ये अप्रैल ३, २०२० की एडवाइजरी में ही बता दिया गया था की जनता को कौनसा मास्क पहना चाहिए। 

अब हम समझते है की सरकार को राज्य सरकारों को क्यों ये याद दिलाना पड़ा

क्या N ९५ सुरक्षित है?

जो N ९५ मास्क होता है उसमे कोई खामी नहीं। और ना ही N 95 जिनमे रेस्पिरेटर वाल्व लगा होता है.

बस एक फर्क होता है. रेस्पिरेटर वाल्व जिनमे लगा होता है उनसे जब आप हवा अंदर लेते है तो वो शुद्ध हो कर आती है. परन्तु जब आप हवा छोड़ते है तो वो सीधी निकाल जाती है. 

इसका मतलब जो डॉक्टर्स है या मेडिकल स्टाफ है जो कोरोना मरीजों की देखभाल कर रहा है उनके लिए तो ये मास्क चल जायेगा पर अगर आम जनता अगर इसको पहन कर घूमने लगे तो मुश्किल होगी।

मान लीजिये आपके एक मित्र है जिन्हे कोरोना हो गया है. परन्तु उन्हें कोई सिम्प्टम नहीं दिख रहे या उन्हें पता ही नहीं।वैसे भी कोरोना हुआ है ये बहुत बाद में पता चलता है.

अगर वो मित्र N ९५ मास्क लगा कर आपसे मिलने आयेंगे तो वो तो शुद्ध हवा लेते रहेंगे पर जो हवा छोड़ेंगे वो कोरोना से ग्रस्त होगी.

अब आप समझ सकते है की सरकार को क्यों चिंता हुई.

और ये चिंता अभी की नहीं बल्कि शुरू से ही एडवाइजरी में ये ही कहा गया की ये मास्क्स सिर्फ मेडिकल कर्मचारी ही पहने। आम जनता के लिए साधारण तीन लेयर वाले मास्क काफी है.

नीचे दिए चित्र को क्लिक करके देखे की सरकार ने अप्रैल में ही एडवाइसरी जरी कर दी थी

N-95 मास्क पर सरकार की अप्रैल में एडवाइसरी

ये भी जाने

कोरोना म्यूकस या लार या थुकः के कणो में रह कर फैलता है. और सदर्न मास्क इन कणो  को आसानी से रोक पाते है अगर खुली जगह में हो तो.

पर एक ही मास्क को बहुत देर या ज्यादा बार नहीं इस्तेमाल करना चाहिए ये भी एडवाइसरी कहती है. नीचे के चित्र पर क्लिक करके एडवाइसरी पढ़े।

साथ ही को-मोर्बिडीटी जैसे मधुमेह टाइप २ का भी ध्यान रखे. मधुमेह टाइप २ के लक्षण ( madhumeh type 2 ke lakshan)क्या होते है उन्हें पहचाने ताकि आप सुरक्षित रहे. अधिक जानकारी के लिए भारत सरकार और अन्य विश्वसनीय चिकित्सकीय स्रोत के जानकारी ले.

अफवाह फ़ैलाने में मदत न करे

जैसा आप सब जानते है की कोरोना अपने साथ बहुत से चैलेंजेस ले कर आया है. उसमे से ही एक है खबरों को तोड़ मोड़ कर पेश करना।

अब हम तो साधारण सी साइट है जो स्वास्थ के विषयो में सही जानकारीया देते है. हमे खबर को तोड़ मरोड़ क्र पेश करने की जरूरत नहीं।

कोई प्रश्न हो तो कमेंट में लिखे।

1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: स्वतंत्रता दिवस विशेष - 15 August Special - सेहत समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top